ज़िन्दगी है चौराहा नहीं, भीड़ नहीं चाहिए


ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहिए

इन रास्तो मे मुलाकते तोह हुई
मुलाकातों के संग थोड़ी बातें भी हुई
रोकेगे न हम तुमको
कुछ यही समझ कर जाईये
ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहिए

नेक हो अगर इरादे
तोह कुछ पल तुम रुक जाना
वरना जिस रास्ते से आये
वही वापस चले जाइये
ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहये

Comments

Popular posts from this blog

Where are the "Friends" now?

Rain! :)

Exam times!