ज़िन्दगी है चौराहा नहीं, भीड़ नहीं चाहिए


ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहिए

इन रास्तो मे मुलाकते तोह हुई
मुलाकातों के संग थोड़ी बातें भी हुई
रोकेगे न हम तुमको
कुछ यही समझ कर जाईये
ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहिए

नेक हो अगर इरादे
तोह कुछ पल तुम रुक जाना
वरना जिस रास्ते से आये
वही वापस चले जाइये
ज़िन्दगी है चौराहा नहीं
भीड़ नहीं चाहये

Comments

All time highs

Where are the "Friends" now?

Rain! :)

Friends or How I met your mother?

#10 Something you always think "What if" about

Exam times!